BDC Election Full Form | BDC Election Eligibility| BDC Election Process

BDC Election Full Form, BDC Election Kaise Hote Hai), BDC Election Process, बीडीसी इलेक्शन प्रक्रिया (BDC Election Process) क्या होती है तथा बीडीसी सदस्य बनने हेतु योग्यता  (BDC Election Eligiblity, BDC full form in Hindi, BDC kya hota hai, BDC ki full kya hai, BDC ka mtlb kya hota hai

बीडीसी इलेक्शन का मतलब क्या होता है ( BDC Election Kya Hai)

देश में कई राज्य होते है,  और हर राज्य में कई जिले होते है और उन जिलों के अंतर्गत विभिन्न गाँव आते है | वहीं उन गाँवों में कामो की देख – रेख करने के लिए प्रधान और बीडीसी का चुनाव कराया जाता है | इसके बाद प्रधान और बीडीसी का चुनाव जीतने वाले व्यक्ति को गाँव का प्रमुख मान लिया जाता है | वहीं बीडीसी को भी गांव की कई जिम्मेदारियां सौंपी जाती हैं, जिनके मुताबिक उन्हें गाँव के पूरे कामो को करना होता है | यह गांव के लिए एक प्रमुख पद होता है, जिसके लिए हर गाँव में बीडीसी का चुनाव (BDC Election) कराया जाता है | इसमें बीडीसी बनने वाले व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ भी प्रदान किया जाता है |

bdc election full form

बीडीसी सदस्य बनने हेतु योग्यता (Eligibility For BDC Member)

बीडीसी चुनाव के लिए किसी भी तरह की शैक्षणिक योग्यता निर्धारित नहीं है, परन्तु चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को उसी गांव का निवासी होना आवश्यक है| हालाँकि इस बार होनें वाले पंचायती चुनव में उत्तर प्रदेश सरकार न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता को अनिवार्य करने पर विचार कर रही है। इसके साथ ही दो बच्चों से अधिक संतान वालों को लडऩे से रोका जा सकता है। हालाँकि अभी तक इसके लिए कोई अधिकारिक घोषणा नहीं की गयी है|

आवश्यक दस्तावेज बीडीसी सदस्य बनने हेतु (Required Documents For BDC Member)

प्रत्याशी का नाम ग्राम सभा की मतदाता सूची में होना चाहिए |

अनुसूचित जाति या अनुसूचित जन-जाति और पिछड़ा वर्ग प्रत्याशी हेतु जाति प्रमाण पत्र होना आवश्यक है |

स्व-प्रमाणित शपथ पत्र (Self-Attested Affidavit)

आयु प्रमाण पत्र (Birth Certificate)

पैन-कार्ड (Pan Card)

आधार कार्ड (Aadhar Card)

चरित्र प्रमाण पत्र (Character Certificate)

बीडीसी का चुनाव कैसे होता है (BDC Election Process In Hindi)    

संविधान के अनुच्छेद 243 के अंतर्गत पंचायती राज का प्रावधान किया गया है, इसके अंतर्गत ग्राम सभा और ग्राम पंचायत दोनों का गठन किया जाता है । यदि हम नगर पंचायत की बात करे तो यह ऐसे क्षेत्र होते है, जो ना ही पूरी तरह शहर होते है और न ही पूरी तरह से कस्बे होते है| ऐसे क्षेत्रों को नगर पंचायत कहा जाता है | एक नगर पंचायत के अंतर्गत ब्लाक प्रमुख, पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, बीडीसी आदि का चुनाव होता है|

यदि हम बीडीसी सदस्य के चुनाव की बात करे तो इनका चयन चुनाव प्रक्रिया द्वारा होता है|  बीडीसी चुनाव प्रक्रिया के अंतर्गत सबसे पहले बीडीसी प्रत्याशी को अपना आवेदन जिला निर्वाचन कार्यालय में जमा करना होता है| इसके बाद कार्यालय द्वारा प्रत्याशी के लिए एक चुना चिन्ह निश्चित कर दिया जाता है|

Ads


Leave a Comment

X