ग्राम प्रधान (Gram Pradhan) क्या है कैसे बने जानकारी हिंदी में |

ग्राम प्रधान (Gram Pradhan) क्या है  Gram Pradhan Kya Hai:  Gram Pradhan Kaise Bane | दोस्तों इस लेख में आप जानेंगे की ग्राम प्रधान क्या है (Gram Pradhan Kya Hai in Hindiग्राम प्रधान कैसे बने पूरी जानकारी |  ग्राम प्रधान की वेतन कितनी होती है (Gram Pradhan Salary) Gram Pradhan को कैसे पद से मुक्त किया जा सकता है जैसे सभी जानकारी बस ये आर्टिकल अंत तक पढ़ना ताकि आपको अच्छे से समझ में आये।

दोस्तों हम सभी को मालूम है की गाँव हमारा बहुत ताकतवर होता है गाँव के लोगों में एकता की निसानी सबसे जाएदा देखि जाती है अगर हमारे गाँव में कुछ भी होता है तो गाँव के लोग हेल्प करते है और हमेशा साथ रहते है लेकिन गाँव को ओर ताकतवर बनाने के लिए एक Gram Pradhan को चुना जाता है यानी की गाँव के head को चुना जाता है जिसका बात हर कोई मानता है।

जोकि एक निर्वाचित अध्यक्ष (ग्राम प्रधान) द्वारा संचालित होती है| इसे कई राज्यों में सरपंच के नाम से भी जाना जाता है. और कुछ राज्यों में Gram Pradhan भी कहते है. Gram Pradhan कों हर गाव में चुनाव करके चुना जाता है जिसे गाव के लोग वोट देकर जीता देते है तो चलिए इसके बारे में जानते है विस्तार से।

gram pradhan kya hai

ग्राम प्रधान क्या है (What is Gram Pradhan in Hindi)

Gram Panchayat एक गांव स्तर पर पंचायती राज प्रणाली की आधारशिला है पंचायती राज प्रणाली के अनुसार, ग्राम स्तर पर Gram Panchayat, ब्लॉक स्तर पर पंचायत समिति और जिला स्तर पर जिला परिषद हैं। इस प्रणाली को 1973 में 73वें संवैधानिक संशोधन द्वारा अधिनियमित किया गया था। प्रत्येक गांव में (जहां की जनसंख्यां 1 हज़ार से ज्यादा है) एक ग्राम पंचायत (Gram Panchayat) होगी।

जोकि एक निर्वाचित अध्यक्ष (ग्राम प्रधान) द्वारा संचालित होती है। इनका कार्यकाल 5 साल का होता है। Gram Panchayat के कार्य ग्रामीणों की समस्याओं पर निर्भर करते हैं। कम से कम एक हजार की आबादी पर एक ग्राम पंचायत होती है और जिन गांव की आबादी 1000 से कम होती है वहां आसपास के अन्य छोटे-छोटे गांव को मिलाकर एक Gram Panchayat बनाई जाती है।

एक Gram Panchayat उन सभी गांव के लिए कार्य करती है जिन गांवों को मिलाकर एक Gram Panchayat बनाई जाती है।

Also Read: BDC Election Full Form | BDC Election Eligibility

ग्राम पंचायत का चुनाव (Gram Pradhan Election in Hindi)

Gram Pradhan, उप प्रधान तथा ग्राम पंचायत समिति के सदस्य यह तीनों गांव की जनता द्वारा ही चुने जाते हैं और गांव की जनता की सुख सुविधा के लिए कार्यरत होते हैं। इनको जनता का प्रतिनिधि भी कहा जाता है। अब सभी प्रत्याशी के द्वारा चुनाव प्रचार किया जाता है, यह चुनाव प्रचार निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार किया जाता है। इसके बाद निर्धारित तिथि को मतदान कराया जाता है।

मतदान के पश्चात मतगणना की जाती है, जिस प्रत्याशी को अधिक मत प्राप्त होते है, उसे Gram Pradhan पद पर निर्वाचित किया जाता है। निर्वाचित सदस्य को निर्वाचन अधिकारी के द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है यदि कोई सदस्य अपने काम को ठीक से नहीं करता है तो उसे पंचायत समिति से हटाया भी जा सकता है। ग्राम पंचायत अर्थात ग्राम प्रधान का चुनाव मतदान द्वारा गांव के नागरिकों द्वारा किया जाता है।

अब जो व्यक्ति Gram Pradhan या सदस्य के पद पर चुनाव लड़ना चाहता है, उसको एक निर्धारित समय अवधि के अंदर पर्चा दाखिल या आवेदन पत्र को जिले के निर्वाचन अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करना होता है। इसके बाद निर्वाचन कार्यालय के द्वारा प्रत्येक आवेदन कर्ता को एक चुनाव चिन्ह प्रदान किया जाता है।

इसके अलावा ग्राम पंचायत समिति के सदस्यों में से ही एक सदस्य को बहुमत के आधार पर उपप्रधान के लिए चुना जाता है। Gram Pradhan की अनुपस्थिति में उसे ग्राम सभा का उपप्रधान ही वहां के कार्यों की देखरेख करता है।

Also Read: वोटों की गिनती कैसे होती है 

Gram Panchayat के कार्य 

दोस्तों ग्राम प्रधान के निम्नलिखित काम है जिसे में आपको निचे बताऊंगा वैसे ग्राम प्रधान बनना इतना आसान भी नहीं होता है और Gram Pradhan के रूप में काम करना सब की बस की बात भी नहीं होती है इसके लिए बहुत से योगयता (Eligibility) आपके अंदर होना चाहिए।

गांव के विकास के लिए ग्राम पंचायत के द्वारा कई प्रकार के कार्यों का निष्पादन किया जाता है. इन कार्यों को करने में ग्राम प्रधान की मुख्य भूमिका होती है.

ग्राम पंचायत प्राथमिक विद्यालय, उच्च प्राथमिक विद्यालय व अनौपचारिक शिक्षा संबंधी कार्य करती है.

ग्रामीण स्तर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सम्बंधी कार्य की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत की होती है.

समस्त प्रकार की पेंशन को स्वीकृत करने व वितरण का कार्य ग्राम पंचायत का होता है.

राशन की दुकान का आवंटन व निरस्तीकरण ग्राम पंचायत के कार्यों के अंतर्गत आती है.

ग्राम पंचायत महिला एवं बाल विकास सम्बंधी कार्य को करती है.

ग्राम पंचायत में जितनी भी कच्ची–पक्की सड़कों का निर्माण होता है, सभी ग्राम प्रधान को ही देखने होते हैं, साथ ही पानी निकासी के ड्रेनेज की भी व्यवस्था भी करनी होती है.

ग्राम पंचायत कृषि संबंधी कार्य की रूपरेखा तैयार करती है और कृषि संबंधी व्यवधानों को अपने स्तर पर ठीक करती है.

राजकीय नलकूपों की मरम्मत व रखरखाव का कार्य ग्राम पंचायत करती है.

छात्रों को प्राप्त समस्त प्रकार की छात्रवृत्तियों को स्वीकृति करने व वितरण का कार्य ग्राम पंचायत का होता है.

युवा कल्याण सम्बंधी कार्यों की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत के अंतर्गत आती है

पशुधन विकास सम्बंधी कार्य

पंचायती राज सम्बंधी ग्राम्यस्तरीय कार्य आदि।

Also Read: बिजली का बिल ऑनलाइन कैसे जमा करे

Gram Panchayat में प्रधान द्वारा किए गए कार्य की जानकारी कैसे प्राप्त करें

Ads


दोस्तों अब हमलोग बात करते है की Gram Pradhan के द्वारा किये गए काम को कैसे हमलोग देख सकते है तो निचे आपको स्टेप बताया गया बस उसे Follow करना है इसके बाद आप बहुत आसानी से निकाल सकते है।

सबसे पहले निचे दिए गए Link पर जाना है. उसके बाद Reporters पर जाना है.

अब निचे Image जैसा Page मिलेगा जिसमे आपको अपने ग्रामसभा का Details Select करना है.

Plane Year में Year Select करना है, किस Year में किये गए Work list Check करना चाहते है.

State में आपको अपना State Select कर लेना है.

Pl Unit category प्लान Categories में Local Unit पैर टिक मार्क लगाये

Plane Unit Type में आपको कई Option मिलेंगे जैसे जिला पंचायत, ग्राम पंचायत टाउन पंचायत, आदि ग्राम प्रधान Work List Check करना है तो ग्राम पंचायत Select कर ले

अब आपको Plane Type Select के बाद 3 Option मिलेगा. जिला पंचायत में अपना District Select करें.

क्षेत्र पंचायत में City का नाम Select कर ले

अब Last में आपके City में जितने भी गाँव है, सभी का List मिल जायेगा और अपने ग्राम का नाम select कर ले.

अब Lats में Right Text कोड दिया होगा कोड को निचे दिए गए ब्लैंक स्पेस में Fill करके Get Report पर Click करना है.

Get Report पर Click करें और नया Page Open हो जायेगा, जिसमे आपको आपके ग्राम प्रधान Work List Status Show हो रहा होगा.

Gram Pradhan को कैसे पद से मुक्त किया जा सकता है 

इस सूचना में GramPanchayat के आधे सदस्यों के हस्ताक्षर होने ज़रूरी होते हैं। इस सूचना में प्रधान को पदमुक्त करने के सभी कारणों का उल्लेख सविस्तार में होना चाहिए। हस्ताक्षर करने वाले Gram Panchayat सदस्यों में से तीन सदस्यों का जिला पंचायती राज अधिकारी के सामने उपस्थित होना अनिवार्य होगा।

किसी भी प्रधान को समय से पहले पदमुक्त करने के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी को एक लिखित सूचना दी जानी चाहिए। अगर Gram Pradhan या उप प्रधान गाँव की प्रगति के लिए ठीक ढंग से काम नहीं कर रहे हैं तो उन्हें पद से हटाया भी जा सकता है।

सूचना प्राप्त होने के 30 दिन के भीतर जिला पंचायत राज अधिकारी गाँव में एक बैठक आयोजित करेगा, इस बैठक की सूचना कम से कम 15 दिन पहले दी जाएगी। बैठक में उपस्थित तथा वोट देने वाले सदस्यों के 2/3 बहुमत से प्रधान एवं उप प्रधान को पदमुक्त किया जा सकता है।

Gram Panchayat समिति

Ads


गांव में रहने वाले लोगों के द्वारा GramPanchayat  समिति का सदस्य चुना जाता है। GramPradhan समिति के सदस्यों की संख्या गांव की जनसंख्या पर निर्भर करती है. 8 वर्ष की उम्र के पश्चात सभी स्त्री व पुरुष अपने मत का प्रयोग करके ग्राम पंचायत समिति के सदस्य का चुनाव कर सकते हैं|

पंचायत समिति के सदस्यों की संख्या 9 से लेकर 15 तक हो सकती है, यह संख्या उसे ग्राम सभा की कुल जनसंख्या के आधार पर निर्धारित होती है इसके अतिरिक्त Gram Panchayat समिति का सदस्य होने के लिए सबसे महत्वपूर्ण योग्यता यह है कि वह व्यक्ति किसी भी न्यायालय द्वारा कोई सजा ना पाया हो, और साथ ही साथ वह व्यक्ति पागल या दिवालिया ना हो|

ग्राम पंचायत समिति का सदस्य होने के लिए किसी व्यक्ति की न्यूनतम उम्र 21 साल होनी चाहिए इसके साथ ही साथ वह व्यक्ति उस गांव का निवासी हो|

Also Read: मुफ्त LPG गैस सिलेंडर कैसे प्राप्त करें 

Gram Pradhan का कार्यकाल क्या है

GramPradhan का कार्यकाल वर्षो का होता है. ग्राम प्रधान चुनते समय उसको 5 साल के लिए चुना जाता है. अगर वह ग्राम प्रधान उन 5 सालो में अच्छे काम करता है तो उसे फिरसे 5 वर्षो के लिए चुना जा सकता है. ग्राम प्रधान कों गाव के लोग चुनते| सभी गावो में ग्राम प्रधान के लिए इलेक्शन करके चुनाव किया जाता है.

Gram Pradhan बनाने के लिए क्या जरुरी है

Ads


अगर आप ग्राम प्रधान बनाना चाहते हो तो आपको 8 वी पास होना जरुरी है

अगर आपको पंचायत समिति सदस्य या जिल्हा परिषद् सदस्य बनाना है तो आपको 10वीं पास होना जरुरी है.

Gram Pradhan के अधिकार

एक ग्राम प्रधान के रूप में वह ग्रामसभा एवं ग्राम पंचायत की बैठक बुलाता है तथा इसकी कार्यवाही को नियंत्रित करता है।

उत्तर प्रदेश में पंचायती राज एक्ट के अनुसार विकास की कार्य योजना तैयार करने के लिए हर ग्राम पंचायत में 6 समितियां गठित की जाती है, इन समिति में प्रशासनिक कार्य समिति, नियोजन कार्य समिति, निर्माण कार्य समिति, जल प्रबंधन समिति, चिकित्सा स्वास्थ्य समिति, शिक्षा समिति है. परन्तु वास्तविक रूप इन सभी का कार्य ग्राम प्रधान के द्वारा कराया जाता है।

ग्राम पंचायतों के लिए सरकार द्वारा निर्धारित विकास योजनाओं, निर्माण कार्य व अन्य कार्यक्रमों की जानकारी रखना तथा सम्बंधित अधिकारियों से आवश्यक जानकारी लेकर ग्रामवासियों को बताना जिनसे वह इसका लाभ प्राप्त कर सके।

Gram Pradhan का वेतन (Salary)

Ads


दोस्तों अब बात करते है की Gram Pradhan की वेतन कितनी होती है तो उत्तर प्रदेश राज्य में ग्राम प्रधान का वेतन 3500 रूपये है, इसके अतिरिक्त उन्हें यात्रा भत्ता एवं अन्य खर्चों के रूप में 15000 रूपये प्रति माह प्राप्त होते हैं। और ये हर state में अलग अलग वेतन हो सकती है इसके लिए आप Google में search कर सकते है।

Concluson

तो दोस्तों हम आशा करते है की आपको यह Article समज में आ गया होगा की Gram Pradhan Kya Hai, Gram Pradhan ka Karyakal Kya Hai, और Gram pradhan ka karyakal kitna hota hai. ग्राम प्रधान कैसे बने पूरी जानकारी (How to become a Village Head in Hindi) पढ़के अच्छी जानकारी मिली होंगी। इस Article से संबंधित कोई प्रश्न है तो निचे Comment करके जरूर बताये।

Ads


X