लॉकडाउन 5 के नियम (Guidelines)

लॉकडाउन 5 के नियम

देश में जारी लॉकडाउन का चौथा चरण समाप्त होनें से पहले केंद्र सरकार नें लॉकडाउन के पांचवें चरण (Lockdown 5.0) की घोषणा की है| देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने 1 जून से 30 जून तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की है। हालाँकि सरकार नें पांचवें चरण के लॉकडाउन में पहले से अधिक छूट प्रदान की है| लॉकडाउन के पांचवें चरण के लिए नए दिशा-निर्देश जारी करते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसे अनलॉक-1 का नाम दिया है। अनलॉक-1 को तीन चरणों में बांटा गया है, जिसके तहत चरणबद्ध ढंग से देश में चीजों को खोला जाएगा। आइए जानते हैं, लॉकडाउन 5 में जारी किये गये दिशा-निर्देशो के बारें में|

lockdown k five rule

लॉकडाउन 5 के लिए जारी नई गाइडलाइंस

देश में 25 मार्च से जारी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई को समाप्त हो रहा है। नए दिशा-निर्देशों में गृह मंत्रालय ने कहा कि निषिद्ध क्षेत्रों से बाहर जिन गतिविधियों पर पाबंदी लगी थी, उन्हें एक जून से चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जाएगा। उसमें कहा गया है कि लॉकडाउन, जिसका चौथा चरण रविवार को समाप्त हो रहा है, निषिद्ध क्षेत्रों में 30 जून तक प्रभावी रहेगा। 

  • पहले चरण के अंतर्गत अर्थात 8 जून से शॉपिंग मॉल, सैलून, होटल और रेस्‍तरां, धार्मिक स्थल तथा अन्य आतिथ्य सत्कार सेवाएं शुरू कर दी जाएँगी| हालाँकि कोरोनावायरस के प्रसार को रोकनें के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय  इनके लिए एसओपी जारी करेगा, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सभी लोग करे| 
  • दूसरे चरण में स्कूल-कॉलेज, शैक्षणिक संस्थान, प्रशिक्षण संस्थान, कोचिंग इंस्टिट्यूट को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ सलाह के बाद खोला जाएगा। राज्य और केंद्र शासित प्रदेश शिक्षण संस्थानों को जुलाई से खोलने के संबंध में अभिभावकों और अन्य संबंधित लोगों के साथ चर्चा कर सकते हैं। इस फीडबैक पर ही संस्थान को खोलने का निर्णय लिया जाएगा|
  • तीसरे चरण में अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल, जिम, स्वीमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार और ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल जैसी जगहें आदि को खोलने पर विचार करनें के पश्चात इन गतिविधियों को दोबारा से शुरू किया जा सकता है|

कंटेनमेंट जोन में जारी रहेगा लॉकडाउन

कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन 30 जून तक लागू रहेगा। कंटेनमेंट जोन में सिर्फ आवश्यक सेवाओं की ही इजाजत होगी। इस बात का खास ध्यान रखा जाएगा कि कंटेनमेंट जोन में लोगों का मूवमेंट ना हो। कंटेनमेंट जोन में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, घर-घर का सर्विलांस होगा। राज्यों की तरफ से कंटेनमेंट जोन के बाहर बफर जोन तय किए जा सकते हैं, जहां नए मामले आने की अधिक संभावना हो। इन बफर जोन में जिला प्रशासन अपने विवेकानुसार पाबंदियां लगा सकता है।

नाइट कर्फ्यू रहेगा जारी

आवश्यक सेवाओं की छोड़कर रात को 9 बजे से सुबह 5 बजे तक अब नाइट कर्फ्यू रहेगा, अभी तक यह कर्फ्यू शाम 7 से सुबह 7 बजे तक था। स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोले जाने पर फैसला सरकार बाद में लेगी।

एक से दूसरे राज्य में जाने का प्रतिबंध नहीं 

लोगो को एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने का प्रतिबंध पूरी तरह से हटा लिया गया है। राज्य में भी एक जिले से दूसरे जिले में जा सकेंगे, परन्तु लोगो को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। कहीं आने जाने से पहले किसी की कोई इजाजत लेने की जरूरत नहीं होगी। हालांकि, राज्यों को अगर कहीं लगता है तो वह पाबंदियां लगा सकते हैं, जिसकी जानकारी वह पहले से ही दे देंगे।

Leave a Reply